Galat Train Mein

Galat Train Mein   

Author:
ISBN: 8173153639
Language: Hindi
Publisher: Prabhat Prakashan
Edition: 1st
Publication Year: 2010
Pages: 110
Binding Style: Hard Cover
Rs. 150
Inclusive of taxes
Out of Stock
Call +91-11-23289555
for assistance from our product expert.
Description

' यह क्या, बाबूजी, आप खुद ही चले आए! मैं आपको बुलाने जा ही रहा था । '' दिल खोलकर हँस पड़े निखिल हालदार । बोले, '' मैंने सोचा, देखूँ तो सही कि रास्ता ढूँढने में गलती करता हूँ या नहीं । लग रहा है, ईंट-पत्थर ही सबसे भरोसेमंद होते हैं । जरा भी नहीं बदलते । '' फिर वही सेंटीमेंट । नहीं । ऐसे और कितनी देर तक काम चलेगा? उन्हें असली दुनिया में खींचकर न लाने से यही चलता रहेगा । '' बाबूजी, यह है आपकी बहू । '' '' हाँ! ओह! रहने -दो, बहू । वाह! बहुत अच्छा । यह देखो बहू एक और बूढ़े बच्चे का झमेला तुम्हारे कंधे पर आ पड़ा । '' '' झमेला क्यों कहते हैं, बाबूजी? कितनी खुशी हो रही है हम लोगों को ।. .कल से. .कल आप आए नहीं । कल तो हम लोग एकदम.. .बाद में इतना बुरा लगा । '' '' मत पूछो, बहू । नसीब का लिखा कल जो झमेला गया, तुम लोग सुनोगे तो ' बाबूजी कितने बुद्धू हैं ' कहकर हँसोगे । कल गलत ट्रेन पर चढ़ गया था । इसी से यह गड़बड़ी हुई । '' '' गलत ट्रेन में!'' '' वही तो । नसीब में भुगतना लिखा था । स्टेशन पहुँचा तो... '' -इसी पुस्तक से
इस उपन्यास की नायिका सुचरिता, जो नायक निखिल की पत्‍नी है, एक स्वाभिमानी नारी है । वह अपने भाग्य की विडंबना को, अपने पति के गलत निर्णयों को जीवन भर सिर उठाकर झेलती है, पर अंत में उसका साहस साथ छोड़ जाता है; अपने पति की एक अंतिम गलती के लिए वह उसे क्षमा नहीं कर सकी और जीवन के आगे हार गई । प्रसिद्ध बँगला उपन्यासकार आशापूर्णा देवी की सशक्‍त लेखनी से निःसृत अत्यंत हृदयस्पर्शी कृति, जो पाठकों के मानस-पटल पर वर्षो छाई रहेगी ।

The Author
Reviews
Customers who bought this also bought
You have an error in your SQL syntax; check the manual that corresponds to your MySQL server version for the right syntax to use near ') and bookid!='693'' at line 1