Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Shivaji Maharaj The Greatest   

₹600

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Dr. Hemantraje Gaikwad
Features
  • ISBN : 9789353222628
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1si
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Dr. Hemantraje Gaikwad
  • 9789353222628
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1si
  • 2019
  • 288
  • Hard Cover

Description

छत्रपति शिवाजी महाराज अप्रतिम थे। उनका पराक्रम, कूटनीति, दूरदृष्टि, साहस व प्रजा के प्रति स्नेहभाव अद्वितीय है। सैन्य-प्रबंधन, रक्षा-नीति, अर्थशास्त्र, विदेश-नीति, वित्त, प्रबंधन— सभी क्षेत्रों में उनकी अपूर्व दूरदृष्टि थी, जिस कारण वे अपने समकालीन शासकों से सदैव आगे रहे। राष्ट्रप्रेम से अनुप्राणित उनका जीवन सबके लिए प्रेरणा का स्रोत है और अनुकरणीय भी।
छत्रपति शिवाजी महाराज ने ‘हिंदवी स्वराज’ की अवधारणा दी; अपनी अतुलनीय निर्णय-क्षमता और सूझबूझ व अविजित पराक्रम के बल पर मुगल आक्रांताओं के घमंड को चूर-चूर कर दिया; अपनी लोकोपयोगी नीतियों से जनकल्याण किया।
शिवाजी महाराज की तुलना सिकंदर, सीजर, हन्नीबल, आटीला आदि शासकों से की जाती है।
यह पुस्तक उस अपराजेय योद्धा, कुशल संगठक, नीति-निर्धारक व योजनाकार की गौरवगाथा है, जो उनके गुणों को ग्राह्य करने के लिए प्रेरित करेगी।

____________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम

विशेष आभार —Pgs. 9

आभार —Pgs. 11

1. मंगलाचरण —Pgs. 17

2. पृष्ठभूमि —Pgs. 21

3. शिवाजी महाराज का बचपन —Pgs. 32

4. शिवाजी महाराज एवं डेविड व गोलिएथ —Pgs. 39

5. शिवाजी महाराज और थर्मोपीली  —Pgs. 50

6. शिवाजी महाराज और ‘गनिमी कावा’  —Pgs. 57

7. शिवाजी महाराज और संसार के कत्लेआम —Pgs. 68

8. शिवाजी महाराज और ट्रॉय —Pgs. 72

9. शिवाजी महाराज और चीन की दीवार —Pgs. 78

10. शिवाजी महाराज एवं उनका महान् पलायन  —Pgs. 87

11. शिवाजी महाराज और नौसेना —Pgs. 101

12. शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक एवं मैग्नाकार्टा —Pgs. 117

13. शिवाजी महाराज और जिनेवा सम्मेलन  —Pgs. 127

14. शिवाजी महाराज और धर्म —Pgs. 133

15. शिवाजी महाराज और डिप्लोमेसी —Pgs. 141

16. शिवाजी महाराज और संकटकालीन परिस्थितियाँ  —Pgs. 145

17. शिवाजी महाराज और फ्रेंच राज्य-क्रांति    —Pgs. 147

18. शिवाजी महाराज और मराठी भाषा  —Pgs. 152

19. शिवाजी महाराज और समाज-सुधार  —Pgs. 154

20. शिवाजी महाराज और गुलामी की प्रथा —Pgs. 162

21. शिवाजी महाराज एवं उनके पिताश्री  —Pgs. 169

22. शिवाजी महाराज एवं उनके भ्राता (बंधु) —Pgs. 174

23. शिवाजी महाराज एवं उनके पुत्र —Pgs. 178

24. शिवाजी महाराज का देहावसान  —Pgs. 185

25. शिवाजी महाराज एवं उनके कॉमरेड्स (मावले) —Pgs. 191

26. शिवाजी महाराज एवं न्याय-व्यवस्था  —Pgs. 200

27. शिवाजी महाराज एवं भारत की स्वतंत्रता संग्राम —Pgs. 206

28. शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में  —Pgs. 210

29. शिवाजी महाराज एवं ग्रेटनेस —Pgs. 214

30. शिवाजी महाराज एवं राष्ट्र-निर्माण  —Pgs. 218

31. शिवाजी महाराज की अ​द्वितीयता  —Pgs. 233

32. शिवाजी महाराज एवं संसार के कुछ महान् योद्धा  —Pgs. 235

33. तुलना —Pgs. 273

संदर्भ-सूची —Pgs. 287

 

The Author

Dr. Hemantraje Gaikwad

डॉ. हेमंतराजे गायकवाड ने अपनी एमबीबीएस डीओएमएस की पढ़ाई ग्रांट मेडिकल कॉलेज से की, जहाँ वे छात्र संघ के महासचिव थे। सन् 1999 में अपने बैच की रजत जयंती को मनाने के लिए उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों से जुड़ी इस रोचक पुस्तक को लिखा जिसका नाम है—‘चकारका मकारका।’
सन् 1986 में वे चिकित्सा अधिकारी के रूप में नियुक्त हुए और कालांतर में ग्रेटर मुंबई के कमांडेंट बने। वे ‘स्वतंत्रता स्वर्ण जयंती पदक’ (1997) व ‘महाराष्ट्र राज्य होमगार्ड हीरक जयंती पदक’ (2006) से अलंकृत हैं।
उन्होंने कॉलेज/यूनिवर्सिटी की प्रतियोगिताओं में वाद-विवाद, रॉक क्लाइंबिंग और बैडमिंटन के अनेक पुरस्कार जीते। सन् 1980 में अपने इंटर्नशिप के दौरान उन्होंने चिरनर ग्रामीण चिकित्सा केंद्र की स्थापना की, जो आज बढ़ता हुआ चालीस बिस्तरोंवाला ग्रामीण अस्पताल बन गया है।
पिछले सोलह वर्षों में 7,000 से अधिक चिकित्सा सहायकों को प्रशिक्षित किया। डॉ. गायकवाड भारत सेवक समाज के क्षेत्रीय अधिकारी (महाराष्ट्र) थे, जिसके संस्थापक अध्यक्ष पं. जवाहरलाल नेहरू थे। भासेस को पहले ‘सर्वेंट सोसाइटी ऑफ इंडिया’ कहते थे, जिसकी स्थापना श्री गोपाल कृष्ण गोखले ने सन् 1902 में की थी।
लायंस क्लब इंटरनेशनल ने उन्हें असाधारण शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया था। उन्हें भारतीय चिकित्सा रत्न अवार्ड और राजीव गांधी शिरोमणि पुरस्कार भी मिल चुका है। उनकी पुस्तक ‘महान शिवाजी महाराज’ (मराठी) सर्वाधिक बिकनेवाली पुस्तकों में शामिल है। वह डॉ. पुष्पा गायकवाड़ के साथ सुखद वैवाहिक जीवन बिता रहे हैं, जो एक नेत्र रोग सर्जन हैं। उनके दो बच्चे—डॉ. गौरांग, जो होम्योपैथ हैं और डॉ. गुंजन, जो डेंटल सर्जन हैं।

 

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW