Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Sankalp Ki Sanjeevani Lekar   

₹250

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Anand Aadeesh
Features
  • ISBN : 9789382901815
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Anand Aadeesh
  • 9789382901815
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1
  • 2015
  • 160
  • Hard Cover

Description

इस संसार में कोई जीवन ऐसा नहीं, जहाँ सिर्फ पाना ही पाना हो, खोना हो ही नहीं। कुछ खो जाए तो तकलीफ तो बेशक होती है, पर हम हारें नहीं, यही संदेश ये कविताएँ प्रवाहित कर रही हैं। साथ ही बता रही हैं कि प्रेम का बल ही, प्रेम यानी पवित्रता का बल ही हमें पराजय-बोध से दूर रखकर जीवन से जोड़े रख सकता है।
—सूर्यकान्त बाली

___________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम

अभिमत — डॉ. सूर्यकान्त बाली —Pgs. ७

मनोगत — आनन्द आदीश —Pgs. ११

१. परंपरा —Pgs. २५

२. आलोक —Pgs. २७

३. हिम-प्रहरी —Pgs. २८

४. जय-जवान —Pgs. ३१

५. पराजय —Pgs. ३२

६. गंध-सौगंध —Pgs. ३३

७. शाश्वत्-मल्हार —Pgs. ३५

८. बाजी —Pgs. ३७

९. पूनम की रात —Pgs. ३८

१०. हे स्वदेश! —Pgs. ४०

११. पीर —Pgs. ४१

१२. शब्द-ब्रह्म —Pgs. ४२

१३. विश्वास-माँझी —Pgs. ४३

१४. माँ —Pgs. ४४

१५. गीत-गवाह —Pgs. ४५

१६. हतभाग्य! —Pgs. ४६

१७. महा-मिलन —Pgs. ४७

१८. आश्चर्य —Pgs. ४८

१९. झुठलाना मत —Pgs. ४९

२०. पगली —Pgs. ५०

२१. उसने/किसने —Pgs. ५१

२२. राधा बौरायी फिरती है —Pgs. ५३

२३. भला मैं कौन! —Pgs. ५४

२४. अग्नि परीक्षा —Pgs. ५६

२५. बैरन-किस्मत —Pgs. ५७

२६. विडंबना —Pgs. ५९

२७. वह बात नहीं —Pgs. ६१

२८. मत गाओ —Pgs. ६२

२९. उस द्वार चलो —Pgs. ६३

३०. कौन थे तुम! —Pgs. ६५

३१. सावधान! —Pgs. ६८

३२. दो मुझे मेरा पुरातन —Pgs. ७०

३३. मत बरसो —Pgs. ७२

३४. प्रहार अब करो —Pgs. ७४

३५. प्यारी झुग्गी —Pgs. ७५

३६. लौह-लाडले —Pgs. ७८

३७. राष्ट्रनायकों के नाम —Pgs. ८०

३८. शिक्षा/अशिक्षा-त्रिकोण —Pgs. ८२

३९. व्यर्थ —Pgs. ८६

४०. पागल हूँ —Pgs. ८८

४१. वरदान नहीं दे पाऊँगा —Pgs. ८९

४२. दुसाहस —Pgs. ९१

४३. आकांक्षा —Pgs. ९३

४४. संताप नहीं होगा —Pgs. ९४

४५. नमन् —Pgs. ९९

४६. भैया कौन तुम! —Pgs. १०१

४७. वे —Pgs. १०२

४८. बाँधो मत —Pgs. १०३

४९. रागिनी भूली हुई है —Pgs. १०४

५०. धीर/अधीर —Pgs. १०६

५१. नेह देना —Pgs. १०९

५२. गुनगुनाओ —Pgs. १११

५३. ओ बे रिक्शा! —Pgs. ११२

५४. सुनो आचार्य —Pgs. ११५

५५. इतिहास हो गए —Pgs. ११९

५६. ओ विधाता! —Pgs. १२१

५७. रहस्य —Pgs. १२५

५८. मैं —Pgs. १२७

५९. साक्षात-सत्य —Pgs. १२८

६०. जिंदगी —Pgs. १२९

६१. भूखा पापी —Pgs. १३०

६२. रीती रही गगरिया —Pgs. १३२

६३. बहरी दुनिया —Pgs. १३४

६४. भूल —Pgs. १३५

६५. हे राम! —Pgs. १३८

६६. मृत्युंजय —Pgs. १३९

६७. सुनो सुनयने! —Pgs. १४१

६८. प्रतीक —Pgs. १४२

६९. दोष न देना —Pgs. १४४

७०. तत्पर हैं —Pgs. १४५

७१. रूपांतर —Pgs. १४६

७२. सीमांत गांधी से —Pgs. १४८

७३. तू क्यों मौन! —Pgs. १५१

७४. विजयी बनेंगे —Pgs. १५३

७५. राष्ट्रभक्ति —Pgs. १५५

७६. दीनों के दीनदयाल —Pgs. १५८

७७. जय हे, कहो —Pgs. १६०

The Author

Anand Aadeesh

जन्म : उत्तर प्रदेश के जिला मेरठ (अब बागपत) अंतर्गत ग्राम खेकड़ा के संभ्रांत, सुशिक्षित, समाजसेवी, जमींदार वैष्णव परिवार में।
शिक्षा : हिंदी, अंग्रेजी एवं शिक्षा विषयों में स्नातकोत्तर तथा शोधार्थी।
पद/दायित्व : पूर्व प्राचार्य; निदेशक, ब्यूरो ऑफ टैक्स्ट बुक्स; सदस्य, हिंदी अकादमी, दिल्ली; राष्‍ट्रीय महासचिव, अखिल भारतीय साहित्य परिषद्।
प्रकाशन : हिंदी एवं अंग्रेजी भाषा में एक दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।
संप्रति : स्वान्त: सुखाय स्वाध्याय एवं स्वतंत्र लेखन।

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW