Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Business Ke Sitare   

₹300

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Pramod Batra
Features
  • ISBN : 9789350485026
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1st
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Pramod Batra
  • 9789350485026
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1st
  • 216
  • Hard Cover

Description

किसी भी बिजनेस के फर्श से अर्श तक की यात्रा के बीच कहीं कोई ठहराव नहीं होता; क्योंकि जहाँ ठहरे वहाँ समाप्ति। इसलिए इस यात्रा को पर्वतारोहण की तरह पूरी सावधानी, जिम्मेदारी और निरंतरता के साथ चलाए रखना होता है, तभी एवरेस्ट को फतह किया जा सकता है। इसके बाद यह देखना होता है कि शीर्ष पर कैसे स्थापित रहा जाए। इसके लिए बिजनेसमैन को सामयिक रणनीतियाँ बनानी होती हैं। कुल मिलाकर बिजनेस एक ऐसी मंजिल है, जिसे हर समय प्रकाशमान रखना होगा। वहाँ अँधेरा होने का मतलब है—सबकुछ चौपट हो जाना।
प्रस्तुत पुस्तक कुछ ऐसे ही व्यवसायियों की प्रेरक संक्षिप्त जीवन-गाथाओं का संकलन है, जिन्होंने पारिवारिक परंपराओं को तोड़कर व्यवसाय में हाथ आजमाए और अपनी कठोर मेहनत, जुझारूपन व जीवंत समर्पण के दम पर शून्य से शिखर तक पहुँच गए और आज व्यावसायिक क्षितिज पर सितारों की तरह जगमगा रहे हैं। भावी बिजनेसमैन बिजनेस के इन सितारों से उनकी रणनीतियाँ, युक्तियाँ व कार्यशैली से प्रेरणा लेकर सफलता के पथ पर आगे बढ़ सकते हैं। पुस्तक में अजीम प्रेमजी से लेकर डॉ. नारायण मूर्ति और आनंद महिंद्रा से लेकर गौतम अडाणी तक की बिजनेस रणनीतियाँ वर्णित की गई हैं। बिजनेस में सफल होने और चमकने के व्यावहारिक गुर बताती अत्यंत उपयोगी पुस्तक।

______________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम  
1. अक्षय बेटर — Pgs. 13 51. पवन जैन — Pgs. 116
2. अजीम प्रेमजी — Pgs. 15 52. प्रदीप कुमार गुप्ता — Pgs. 118
3. अनलजीत सिंह — Pgs. 17 53. प्रेम गणपति — Pgs. 120
4. अनिल अग्रवाल — Pgs. 19 54. बाबा रामदेव — Pgs. 122
5. अशोक के. चौहान — Pgs. 21 55. बालकृष्ण गोयनका — Pgs. 124
6. अशोक चतुर्वेदी — Pgs. 23 56. बी.पी. अग्रवाल — Pgs. 126
7. अशोक मिल, नरेश मिल, रमेश मिल — Pgs. 25 57. ब्रिगेडियर डॉ. अरविंद लाल — Pgs. 128
8. अश्नी एवं विवेक बियानी — Pgs. 27 58. भवर लाल जैन शिक्षा-ज्ञान एवं बुद्धिमा — Pgs. 130
9. आनंद कुमार — Pgs. 29 59. मदन डोडेजा — Pgs. 132
10. आनंद डी.सी.एम. 31 60. मनोहर लाल अग्रवाल — Pgs. 134
11. आनंद महिंद्रा — Pgs. 33 61. मल्लिका श्रीनिवासन — Pgs. 136
12. आर.एस. गोयनका एवं आर.एस. अग्रवाल— इमामी ग्रुप — Pgs. 35 62. महेश गुप्ता — Pgs. 138
13. आर. त्यागराजन — Pgs. 37 63. मेहर पुदुमजी व अनु आगा — Pgs. 140
14. आशीष कपूर — Pgs. 39 64. मोतीलाल ओसवाल — Pgs. 142
15. इंदु जैन — Pgs. 41 65. मोहनीश पाब्रै — Pgs. 144
16. इंद्रा के. नूई — Pgs. 44 66. रमेश अग्रवाल — Pgs. 146
17. ई. श्रीधरन — Pgs. 46 67. रमेश चंद्र अग्रवाल — Pgs. 148
18. एन.आर. नारायण मूर्ति एवं सुधा मूर्ति — Pgs. 48 68. राघव बहल — Pgs. 150
19. एम.एस. ओबेरॉय — Pgs. 50 69. राजीव मेमानी — Pgs. 152
20. किरण मजूमदार शॉ — Pgs. 52 70. राजेश मेहता — Pgs. 154
21. किशन खन्ना — Pgs. 54 71. राणा कपूर — Pgs. 156
22. कीमतराय गुप्ता — Pgs. 56 72. रितु नंदा — Pgs. 158
23. कुँवर सचदेव — Pgs. 58 73. रोशनी नादिर — Pgs. 160
24. कृष्ण गणेश — Pgs. 61 74. रोहित कोचर — Pgs. 162
25. कैप्टन जी.आर. गोपीनाथ — Pgs. 63 75. लक्ष्मण दास मिल, दीपक और अमृत सागर — Pgs. 164
26. गौतम अडाणी — Pgs. 65 76. लक्ष्मी मिल और आदित्य मिल — Pgs. 166
27. चंदू भाई विरानी, कानूभाई विरानी, भीखू भाई विरानी, केयूर विरानी — Pgs. 67 77. वंदना लूथरा — Pgs. 168
28. चेतन मैनी — Pgs. 69 78. विजय महाजन — Pgs. 170
29. जय गुप्ता — Pgs. 72 79. विक्रम सोमानी — Pgs. 172
30. जयप्रकाश गौर — Pgs. 74 80. विजय कुमार अरोड़ा — Pgs. 174
31. जयाराम बनान — Pgs. 76 81. विजय के. थडाणी — Pgs. 176
32. जसवंती बेन जमना दास पोपट — Pgs. 78 82. विजय माल्या — Pgs. 178
33. जी.एम. राव — Pgs. 80 83. विलियम बिसेल — Pgs. 180
34. तुलसी टांटी — Pgs. 82 84. वी.एस.एस. मानी — Pgs. 182
35. डॉ. ए. वेलुमानी — Pgs. 84 85. वी.के. अरोड़ा, अशोक अरोड़ा, सुरिंदर अरोड़ा एवं अश्विनी अरोड़ा — Pgs. 184
36. डॉ. जी. वेंकटस्वामी — Pgs. 86 86. वी.के. बंसल — Pgs. 186
37. डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी — Pgs. 88 87. वी.जी. सिद्धार्थ — Pgs. 188
38. डॉ. प्रताप सी. रेड्डी — Pgs. 90 88. शरद बाबू—फूड किंग — Pgs. 190
39. डॉ. बिंदेश्वर पाठक — Pgs. 92 89. शांतनु प्रकाश — Pgs. 192
40. डी.के. जैन — Pgs. 94 90. शाहिन मिस्त्री — Pgs. 194
41. दीपक कालरा — Pgs. 96 91. शिव नादर — Pgs. 196
42. धर्मपाल गुलाटी — Pgs. 98 92. शिविंदर सिंह एवं मलविंदर सिंह — Pgs. 198
43. नंदन नीलकेनी — Pgs. 100 93. शोभना भरतिया — Pgs. 200
44. नरेश गोयल — Pgs. 102 94. संजीव बिखचंदानी — Pgs. 203
45. नल्ली कुप्पुस्वामी चेयिर — Pgs. 104 95. सावित्री जिंदल — Pgs. 205
46. नवनीत कथालिया — Pgs. 106 96. सी.के. रंगनाथन — Pgs. 207
47. निकुंज संघी — Pgs. 108 97. सी.पी. कृष्णन नायर — Pgs. 209
48. नीतिन नोहरा — Pgs. 110 98. सुधा नारायण मूर्ति — Pgs. 211
49. नीरज गुप्ता — Pgs. 112 99. सुनील मिल — Pgs. 213
50. पतंजलि केसवानी — Pgs. 114 100. हनुमंत और गायकवाड़ — Pgs. 215

The Author

Pramod Batra

व्यक्‍त‌ित्व विकास एवं व्यवहार-प्रबंधन की पुस्तकों के सुपरिचित लेखक हैं। अमेरिका की प्रतिष्‍ठ‌ित यूनिवर्सिटी ऑफ मिनेसोटा से एम.बी.ए. करने के उपरांत वे तैंतीस वर्ष तक भारत के प्रमुख उद्योग समूह ‘एस्कॉर्ट्स’ से संबद्ध रहे और अनेक उच्च पदों पर आसीन रहे। हिंदी-अंग्रेजी में मानव-व्यवहार से संबंधित उनकी 60 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनकी 10 लाख से अधिक प्रतियाँ बिक चुकी हैं। देश-विदेश में व्यवहार-प्रबंधन पर 1 हजार से अधिक सेमिनारों का आयोजन भी कर चुके हैं।

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW