Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Mahesh Chandra Kaushik

Mahesh Chandra Kaushik

Mahesh Chandra Kaushik started his career as a teacher, after doing graduation with a Bachelor’s Degree in Science. He worked as a Junior Clerk in Commercial Taxes Department for five years and then as T.R.A. in Revenue Department, at the Rajasthan Public Service Commission. He was promoted and is presently posted as Assistant Revenue Accounts Officer in the office of District Collector, Sirohi. 
Mahesh has been writing blogs on share market since 2009. Later, due to SEBI Research Analyst Regulation 2014 he had to stop blogging. This prompted thousands of his fans to register him as a certified Research Analyst so that they could continue to benefit from his blogs. Overcome by the love of his fans, he cleared that examination and got himself registered as Research Analyst with SEBI. He has more than 50 thousand followers on social media and You Tube. Now he provides the services as a Research Analyst free of cost.

विज्ञान संकाय से स्नातक महेश चंद्र कौशिक ने अपने कॅरियर की शुरुआत निजी शिक्षण संस्थान में अध्यापक के पद से की थी। बाद में वे राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा वाणिज्यिक कर विभाग राजस्थान में कनिष्ठ लिपिक के पद पर चयनित हुए इस पद पर 5 वर्ष कार्य करने के उपरांत उनका चयन राजस्थान लोक सेवा आयोग के माध्यम से ही टी.आर.ए. के पद पर राजस्व विभाग में हुआ। इस पद पर 2001 से 2017 तक कार्य करने के उपरांत वर्तमान में पदोन्नति पाकर ये सहायक राजस्व लेखा अधिकारी के पद पर जिला कलेक्टर कार्यालय सिरोही में पदस्थापित हैं।
महेशजी वर्ष 2009 से शेयर मार्केट पर ब्लॉग लिख रहे हैं। बाद में सेबी रिसर्च एनालिस्ट रेगूलेशन 2014 आ जाने के कारण इन्होंने अपना ब्लॉग लेखन बंद करने की घोषणा की। इस पर हजारों प्रशंसकों ने उन्हें रिसर्च एनालिस्ट परीक्षा पास करके पंजीकृत रिसर्च एनालिस्ट बनने का निवेदन किया, ताकि उनको ब्लॉग से लगातार ज्ञान मिलता रहे। आपके सोशल मीडिया यूट्यूब पर 50 हजार से अधिक फॉलोअर हैं। इस पर उन्होंने फॉलोअर के प्रेम से वशीभूत होकर उस परीक्षा को पास करके सेबी से रिसर्च एनालिस्ट के रूप में पंजीकरण करवाया; अब रिसर्च एनालिस्ट की सेवाएँ निःशुल्क प्रदान करते हैं।