Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Yagya   

₹350

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Dattatraya Kher , Sailja Raje
Features
  • ISBN : 817315211X
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1st
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Dattatraya Kher , Sailja Raje
  • 817315211X
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1st
  • 384
  • Hard Cover

Description

उपन्यास-लेखन में एक एकदम नई विधा को लेकर ' यज्ञ ' लिखा गया है । यह उपन्यासपरक जीवनी न होकर जीवनपरक उपन्यास है । किसी महानायक के महानिर्वाण के तुरंत बाद लिखा गया यह शायद पहला ही उपन्यास है ।
मराठी में यह नई विधा पहली बार लाने का श्रेय ' यज्ञ ' उपन्यास को जाता है । वास्तव में सावरकरजी सरीखे महानायक के जीवन पर तो एक सशक्‍त महाकाव्य रचा जा सकता है । इस उपन्यास में महाकाव्य के सभी रस, साहित्य के सभी प्रकार, सावरकरजी के व्याख्यान, उनकी काव्य-रचनाएँ नाटकीय प्रसंग आदि का ताना-बाना ऐसी कुशलता से बुना गया है कि न तो उसकी रोचकता कहीं कम हुई है, न ही कथ्य के साथ कोई अन्याय ।
महानायक के प्रति असीम भक्‍त‌िभाव रखते हुए भी उसके जीवन की वास्तविकता के साथ पूरी प्रामाणिकता लेखकों ने रखी है । किसी महानायक के जीवन को ऐसी ललित शैली में एक नई विधा में बाँधने का ' यज्ञ ' अपने में पहला उदाहरण है । उपन्यास जहाँ विधा में अभिनवता लिये है, वहीं वह रसप्रधान एवं रोमांचक भी है । कल्पना से सत्य अधिक सुंदर एवं अद‍्भुत होता है, इस कथन को उपन्यास अपने पन्ने-पन्ने में चरितार्थ करता है ।
कथ्य और उसकी रचना, दोनों दृष्‍ट‌ियों से, ' यज्ञ ' अभूतपूर्व रचना है । मराठी सारस्वत के लिए तो यह एक ललाम है ही, हिंदी के माध्यम से भारत भारती के भंडार को भी समृद्ध करने की क्षमता इसमें है ।

The Author

Dattatraya Kher
Sailja Raje

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW