Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Shivguru Se Devdooton Ki Mang (Paperback)   

₹150

Out of Stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Rakesh Acharya
Features
  • ISBN : 9789353221447
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : Ist
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Rakesh Acharya
  • 9789353221447
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • Ist
  • 2019
  • 152
  • Soft Cover

Description

शिव देवों के देव और गुरुओं के गुरु हैं। किसी भी युग में उनसे श्रेष्ठ गुरु न तो हुआ है, और न होगा। मौजूदा युग में कई गुरु अपने शिष्यों को उपलब्ध ही नहीं हो पाते हैं। उनके शिष्य सीधे अपने गुरु से नहीं मिल पाते और मार्गदर्शन के लिए इधर-उधर भटकते रहते हैं। ऐसे में भगवान् शिव को गुरु धारण करना सर्वश्रेष्ठ विकल्प है। शिवशिष्य शिवगुरु से अपने सवालों के उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। उनसे बात कर सकते हैं। अपनी कामनाएँ पूरी करा सकते हैं। समस्याओं का हल पा सकते हैं। मदद के लिए शिवगुरु से देवदूतों की माँग कर सकते हैं। शिवगुरु अपने शिष्यों को कभी निराश नहीं करते। इस पुस्तक में विद्वान् लेखक ने इन सब का विधान दिया है, जिन्हें अपनाकर कोई भी शिव को गुरु स्वरूप धारण कर सकता है। उन्हें अपने जीवन में शामिल कर सकता है। उनसे अपनी बातें मनवा सकता है। उनको साक्षी बनाकर सिद्धियाँ अर्जित कर सकता है। जीवन के भोगों का सुख उठाते हुए मोक्ष की राह आसान कर सकता है। इसे गृहस्थ, गृहस्थ जीवन के संत और आध्यात्मिक संत सभी सामान रूप से अपना सकते हैं। जिन्होंने किसी अन्य को गुरु धारण किया है, वे भी शिव को गुरु धारण कर सकते हैं।
सबका जीवन सुखी हो, यही हमारी कामना है।

____________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम

भूमिका : शिव — Pgs.7

1. देवदूतों की अदृश्य सहायता  — Pgs.13

2. देवदूतों ने प्रेत बाधा से मुक्ति दिलाई — Pgs.15

3. देवदूतों ने भयानक दुर्घटना से बचाया — Pgs.20

4. देवदूतों की दुनिया — Pgs.22

5. फोर्थ आयाम : एक अदृश्य दुनिया — Pgs.25

6. संजीवनी प्राणायाम से अदृश्य दुनिया में प्रवेश की विधि  — Pgs.30

7. देवदूतों की आत्मा — Pgs.32

8. देवदूतों की मृत्यु का सिद्धांत — Pgs.36

9. देवदूतों के देवता — Pgs.38

10. देवदूतों से संपर्क का विज्ञान  — Pgs.42

11. शिव को गुरु बनाएँ  — Pgs.45

12. ऐसे बनाएँ भगवान् शिव को गुरु  — Pgs.46

13. शिवगुरु के प्रति रोज 20 मिनट समर्पित करें — Pgs.48

14. शिव शिष्यता के नियम — Pgs.49

15. शिव संजीवनी साधना — Pgs.50

16. शिव ज्ञान जागरण संजीवनी साधना की विधि — Pgs.52

17. संजीवनी रुद्राक्ष — Pgs.55

18. शिव ज्ञान जागरण संजीवनी रुद्राक्ष सिद्ध करने की विधि — Pgs.57

19. शिव चर्चा रोज करें — Pgs.58

20. शिवगुरु से ज्ञान लें — Pgs.60

21. शिवगुरु के साथ सोएँ — Pgs.62

22. शिवगुरु के साथ अपना भाग्य जोड़ें — Pgs.64

23. शिवगुरु के साथ भोजन करें — Pgs.66

24. शिवगुरु के सान्निध्य में पूजा-पाठ — Pgs.67

25. मंत्रों को ऊर्जा शरीर में स्थापित करने की विधि — Pgs.68

26. चालीसा-पाठ को ऊर्जा शरीर में स्थापित करने की विधि — Pgs.70

27. शिवगुरु के सान्निध्य में साधना सिद्धि करें  — Pgs.72

28. शिवगुरु से शिव सुरक्षा की माँग रोज करें — Pgs.74

29. दूसरों के लिए शिव सुरक्षा की माँग  — Pgs.76

30. शिवगुरु से अपने सवालों के जवाब प्राप्त करें — Pgs.78

31. मैं समृद्धिशाली कैसे बनूँगा  — Pgs.81

32. सवाल और सावधानियाँ — Pgs.84

33. शिवगुरु से अपनी कामना पूरी कराएँ — Pgs.85

34. मेरा अपना मकान बन जाए  — Pgs.87

35. कामना और सावधानियाँ — Pgs.89

36. शिवगुरु से बात करें — Pgs.90

37. शिवगुरु से समस्या समाधान का आग्रह — Pgs.92

38. समस्या और सावधानियाँ — Pgs.95

39. शिवगुरु से देवदूतों की माँग — Pgs.96

40. देवदूतों की माँग के नियम — Pgs.98

41. देवदूतों को मखाने की खीर दें — Pgs.99

42. ऊपरी बाधा में देवदूतों की सहायता — Pgs.100

43. नकारात्मक तत्त्वों के लिए देवदूतों की माँग — Pgs.103

44. प्रेत बाधा के लिए देवदूतों की माँग...  — Pgs.105

45. ब्लैक मैजिक के लिए देवदूतों की सहायता — Pgs.107

46. देवदूतों ने चोरी हुई बाइक लाकर दी — Pgs.109

47. देवदूतों ने डायमंड रिंग ढूँढ़कर दिए  — Pgs.111

48. खोई चीजों के लिए देवदूतों की सहायता — Pgs.112

49. मुसीबत के समय देवदूतों की माँग — Pgs.114

50. बीमारी में देवदूतों की माँग — Pgs.116

51. दूसरों के लिए देवदूतों की सहायता — Pgs.118

52. परीक्षा में देवदूतों की सहायता — Pgs.120

53. एक साथ कई लोगों के लिए देवदूतों की सहायता — Pgs.122

54. शिव सान्निध्य में समस्या-मुक्ति-उपाय — Pgs.124

55. किसी के पूजा-पाठ और उपाय क्यों फलित नहीं होते? — Pgs.127

56. समस्या-विमोचन का विज्ञान  — Pgs.129

57. घरेलू उपायों का विज्ञान — Pgs.130

58. समस्याओं की जड़ ऊर्जा शरीर में — Pgs.131

59. घरेलू उपायों का सिद्धांत — Pgs.133

60. उपायों से ऊर्जा शरीर का इलाज — Pgs.134

61. उपाय में भगवान् शिव को साक्षी जरूर बनाएँ — Pgs.136

62. उपाय में सावधानी अनिवार्य — Pgs.137

63. शिवलिंग : आभामंडल को ठीक करने का विज्ञान — Pgs.140

64. चौराहे पर टोटका : नकारात्मकता नष्ट करने का सटीक विज्ञान है — Pgs.142

65. चौराहे पर टोटका उपाय के नियम — Pgs.144

66. मुसीबतों को पानी में बहाने का विज्ञान — Pgs.145

67. दान मुसीबतों को खा जाता है — Pgs.147

68. समस्याओं को दफनाने का विज्ञान — Pgs.149

69. जीवों को चीजें खिलाकर समस्याओं से मुक्ति — Pgs.150

The Author

Rakesh Acharya
पेशे से पत्रकार रहे एनर्जी गुरु राकेश आचार्याजी का अधिकांश समय साधनाओं और आध्यात्मिक अनुसंधान में बीतता है। सन् 2002 से आरंभ हुई उनकी आध्यात्मिक यात्रा के प्रारंभिक 12 वर्ष बिना भोजन के बीते। इस बीच उन्होंने आभामंडल, ऊर्जा चक्र और कुंडलिनी पर गहन शोध की। अध्यात्म के वैज्ञानिक पहलू को लोगों के बीच प्रस्तुत किया। विभिन्न टी.वी. चैनलों पर प्रसारित उनके कार्यक्रम ‘मृत्युंजय योग’ का देश-विदेश में अनगिनत लोग लाभ उठा रहे हैं। लोगों के स्वास्थ्य और समृद्धि की दिशा में की गई उनकी सेवाओं के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा उन्हें सम्मानित किया।
राकेश आचार्या ने देवों के देव और गुरुओं के गुरु भगवान् शिव को अपना गुरु धारण किया है। शिवगुरु के कृपादर्शन में साधनाओं और लोकसेवा में निरंतर लीन रहते हैं।

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW