Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Mata Jijabai   

₹200

Out of Stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Rashmi Ghatwai
Features
  • ISBN : 9789351869474
  • Language : English
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Rashmi Ghatwai
  • 9789351869474
  • English
  • Prabhat Prakashan
  • 2016
  • 118
  • Hard Cover

Description

जीजाबाई और शिवाजी के बारे में जितना लिखा जाए उतना कम है । वीरमाता जीजाबाई का जीवन गंगाजल की तरह निर्मल और पवित्र था; साथ ही दीपक की स्निग्धता और सूर्य की प्रखरता भी उनमें विद्यमान थी । भारत भूमि पर हिंदवी स्वराज्य की स्थापना करने का सपना जिजाउ ने शिवबा की आँखों से देखा । मुगल आदिलशाह और निजामशाह ने अपने अत्याचारों से हिंदुओं पर कहर बरपाया था । ऐसे में हिंदुओं की रक्षा करने का बीड़ा शिवाजी ने बाल्यावस्था में ही उठा लिया था । शिवाजी की वीरता, निडरता, कार्य- कुशलता, रण-चातुर्य आदि सब गुण जिजाउ के संस्कारों से ही उनके खून में उतरे थे ।
जिजाउ केवल राजमाता या शिवाजी की ही माता नहीं थीं अपितु स्वराज्यमाता भी थीं । स्वराज्य के निर्माण में वह आदिशक्‍त‌ि और प्रेरणा की स्रोत थीं । शिवाजी को पिता के साथ रहने का अवसर बहुत कम मिला; लेकिन माता जीजाबाई की छत्रच्छाया उनपर हमेशा रही । शिवाजी की मातृभक्‍त‌ि और जिजाउ का पुत्र-प्रेम-दोनों ही अतुलनीय थे ।

The Author

Rashmi Ghatwai

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW