Garh Kundaar

Garh Kundaar   

Author: Vrindavan Lal Verma
ISBN: 9789351868590
Language: Hindi
Publication Year: 2016
Pages: 318
Binding Style: Hard Cover
Rs. 500
Inclusive of taxes
In Stock
Call +91-11-23289555
for assistance from our product expert.
Description

मानवती के .हाथ में अग्निदत्त ने कमान दी और तीर अपने हाथ में लिया । दोनों के हाथ काँप रहे थे । अग्निदत्त का कंधा मानवती के कंधे से सटा हुआ था । सहसा मानवती की आँखों से आँसुओ की धारा बह निकली ।
मानवती ने कहा - '' क्या होगा, अंत में क्या होगा, अग्निदत्त?''
'' मेरा बलिदान?''
'' और मेरा क्या होगा?
'' तुम सुखी होओगी । कहीं की रानी ''
'' धिक्कार है तुमको! तुमको तो ऐसा नहीं कहना चाहिए । ''
'' आज मुझे आँखों के सामने अंधकार दिख रहा है । '
' मानवती की आँखों में कुछ भयानकतामय आकर्षण था । बोली - '' आवश्यकता पड़ने पर स्त्रियाँ सहज ही प्राण विसर्जन कर सकती हैं । '' अग्निदत्त ने उसके कान के पास कहा- '' संसार में रहेंगे तो हम -तुम दोनों एक -दूसरे के होकर रहेंगे और नहीं तो पहले अग्निदत्त तुम्हारी बिदा लेकर... । ''
दलित सिंहनी की तरह आँखें तरेरकर मानवती ने कहा- '' क्या? आगे ऐसी बात कभी मत कहना । इस सुविस्तृत संसार में हमारे-तुम्हारे दोनों के लिए बहुत स्थान है । ''
-इसी उपन्यास से
वर्माजी का पहला उपन्यास, जिसने उन्हें श्रेष्‍ठ उपन्यासकारों की श्रेणी में स्थापित कर दिया ।
हमारे यहाँ से प्रकाशित
वर्माजी की प्रमुख कृतियाँ
मृगनयनी झाँसी की रानी
अमरबेल विराटा की पद्यिनी
टूटे काँटे महारानी दुर्गावती
कचनार माधवजी सिंधिया
गढ़ कुंडार अपनी कहानी

The Author
Vrindavan Lal Verma

मूर्द्धन्य उपन्यासकार श्री वृंदावनलाल वर्मा का जन्म 9 जनवरी, 1889 को मऊरानीपुर ( झाँसी) में एक कुलीन श्रीवास्तव कायस्थ परिवार में हुआ था । इतिहास के प्रति वर्माजी की रुचि बाल्यकाल से ही थी । अत: उन्होंने कानून की उच्च शिक्षा के साथ-साथ इतिहास, राजनीति, दर्शन, मनोविज्ञान, संगीत, मूर्तिकला तथा वास्तुकला का गहन अध्ययन किया ।
ऐतिहासिक उपन्यासों के कारण वर्माजी को सर्वाधिक ख्याति प्राप्‍त हुई । उन्होंने अपने उपन्यासों में इस तथ्य को झुठला दिया कि ' ऐतिहासिक उपन्यास में या तो इतिहास मर जाता है या उपन्यास ', बल्कि उन्होंने इतिहास और उपन्यास दोनों को एक नई दृष्‍ट‌ि प्रदान की ।
आपकी साहित्य सेवा के लिए भारत सरकार ने आपको ' पद‍्म भूषण ' की उपाधि से विभूषित किया, आगरा विश्‍वविद्यालय ने डी.लिट. की मानद् उपाधि प्रदान की । उन्हें ' सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार ' से भी सम्मानित किया गया तथा ' झाँसी की रानी ' पर भारत सरकार ने दो हजार रुपए का पुरस्कार प्रदान किया । इनके अतिरिक्‍त उनकी विभिन्न कृतियों के लिए विभिन्न संस्थाओं ने भी उन्हें सम्मानित व पुरस्कृत किया ।
वर्माजी के अधिकांश उपन्यासों का प्रमुख प्रांतीय भाषाओं के साथ- साथ अंग्रेजी, रूसी तथा चैक भाषाओं में भी अनुवाद हुआ है । आपके उपन्यास ' झाँसी की रानी ' तथा ' मृगनयनी ' का फिल्मांकन भी हो चुका है ।

Reviews
Customers who bought this also bought
More Titles by Vrindavan Lal Verma
Copyright © 2017 Prabhat Prakashan
Online Ordering      Privacy Policy