Chune Hue Bal Ekanki-I

Chune Hue Bal Ekanki-I   

Author: Rohitashva Asthana
ISBN: 9789352661220
Language: Hindi
Edition: 1st
Publication Year: 2017
Pages: 200
Binding Style: Hard Cover
Rs. 400
Inclusive of taxes
In Stock
Call +91-11-23289555
for assistance from our product expert.
Description

कथावस्तु, चरित्र-चित्रण, संवाद, देश-काल, भाषा-शैली, उद्देश्य, अभिनेयता एवं संकलन-त्रय एकांकी नाटक के प्रमुख तत्त्व हैं। इनमें संकलन-त्रय का निर्वाह एकांकी नाटक के लिए अनिवार्य है। संकलन-त्रय से तात्पर्य स्थान, समय और कार्य की एकता से है।
बालकों के मनोरंजन, मार्गदर्शन एवं ज्ञानवर्द्धन के लिए बाल नाटकों एवं बाल एकांकियां का महत्त्व दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।
यदि प्रस्तुत बाल एकांकी संग्रह अपने उद्देश की पूर्ति मं तनिक भी सहायक हो सका तो हम अपने प्रयास को सफल एवं सार्थक समझेंगे।
खट्टी-मीठी पाठकीय प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा में—
—रोहिताश्व अस्थाना

The Author
Rohitashva Asthana

जन्म : 1 दिसंबर, 1949 को अटवा अली मर्दनपुर, हरदोई (उ.प्र.) में।
शिक्षा : एम.ए. (हिंदी), बी.एड., पी-एच.डी.।
वृत्त‌ि अध्यापन एवं लेखन।
कृतियाँ : बाल काव्य : ‘आओ गाएँ, धूम मचाएँ’, ‘आओ बच्चो, गाओ बच्चो’, ‘नन्ही गजलें’, ‘आओ गाएँ गीत रसीले’, ‘मोनू के गीत’, ‘भारत माँ के राज दुलारे’, ‘धूप गुनगुनी हमें बुलाए’, ‘हँसते-मुसकाते सपने’, ‘गीत माला’ आदि। बालकथा : ‘काफिले का सूरज’, ‘स्वप्नलोक’, ‘बच्चों की वापसी’, ‘सोनू की उड़ान’, ‘भूत से टक्कर’, ‘सुनो कहानी गुनो कहानी’, ‘बड़ों की बातें’, ‘कोयल की सीख’ आदि।
संपादित : ‘नन्ही कविताएँ’, ‘चुने हुए बाल गीत’, ‘चुने हुए बाल एकांकी’, ‘सौ श्रेष्‍ठ बाल कहानियाँ’।
विशेष पाठ्य पुस्तकों में रचनाएँ संकलित। आपके बाल साहित्य पर आगरा विश्‍वविद्यालय से पी-एच.डी. तथा कुरुक्षेत्र विश्‍वविद्यालय से एम.फिल. स्तर के शोधकार्य संपन्न; संयोजन—पं. भूप नारायण दीक्षित बाल साहित्य सम्मान।
पुरस्कार : बाल साहित्य के लिए ‘श्रीमती शकुंतला सिरोठिया पुरस्कार’ से लेकर उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ के ‘सूर पुरस्कार’ तक अनेक संस्थाओं द्वारा पुरस्कृत व सम्मानित।

Reviews
Copyright © 2017 Prabhat Prakashan
Online Ordering      Privacy Policy