Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Aahar Chikitsa   

₹95

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Parvesh Handa
Features
  • ISBN : 817315483X
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1st
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Parvesh Handa
  • 817315483X
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1st
  • 176
  • Hard Cover

Description

योग - जगत् ' के परम श्रद्धास्पद अधिकारी गुरु के रूप में प्रख्यात नाम है- स्वामी अक्षय आत्मानंदजी । स्वामीजी ने योगासन, प्राणायाम, अध्यात्म विज्ञान, सम्मोहन विज्ञान और चिकित्सा विज्ञान आदि विषयों पर अत्यंत सरल -सुबोध भाषा एवं तार्किक शैली में अति रोचक अनेक ग्रंथों की रचना की है । स्वामीजी का साहित्य इतना सराहा गया है कि उनके ग्रंथों के कई - कई संस्करण हुए हैं ।
स्वामी अक्षय आत्मानंद योग एवं आहार संबंधी चिकित्सा को समर्पित एक ऐसे व्यक्‍त‌ित्व हैं, जिनकी पुस्तकें पाठक गण बड़ी श्रद्धा से पढ़ते हैं । उनकी पुस्तकों ने जहाँ स्वास्थ्य संबंधी ज्ञान को सर्वसाधारण के लिए सहज-सुलभ बनाया है, वहीं पाठकों को गहरी अंतर्दृष्‍ट‌ि भी प्रदान की है ।
स्वामीजी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के समाधान पत्र द्वारा भी करते हैं ।
संपर्क सूत्र :
स्वामी अक्षय आत्मानंद
38/15, जैन भवन, लखेरा,
कटनी - 483504 ( म.प्र.)

____________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम तवहीन पोषण से होनेवाले रोग—83
1. आहार चिकित्सा—11 6. खाद्य-पदार्थों के पौष्टिक तव व उपयोग—85
अच्छी सेहत, लंबी आयु—13 गेहूँ—86
विशेषज्ञों के अभिमत—14 जौ—88
कुछ अच्छे सुझाव भी—15 चावल—89
पाचन-भोजन, शारीरिक क्रिया—17 मका—90
भोजन का शरीर पर प्रभाव—18 साबुत चना—90
भोजन का मानसिक प्रभाव—19 दलहन—90
भोजन और मन-दर्पण—21 तिलहन—91
भोजन वह, जो ‘प्राण शक्ति’ बढ़ाए—22 पोदार भाजियाँ—93
हठयोग की वर्जनाएँ—23 मेथी—94
अत्याहार: (अति भोजन)—24 पुदीना—96
प्रयासश्च (अतिशय श्रम)—25 सजियाँ—97
प्रजल्पोनियमग्रह: (असंयमित भाषण)—26 आलू—98
जनसंगश्च—27 प्याज—99
लौल्यन्ध—28 लहसुन—100
आरोपण और निष्ठा—29 अदरक—102
2. यों खाएँ, कैसा खाएँ—31 चुकंदर—104
आहार की शारीरिक प्रक्रिया—32 मूल—105
वैज्ञानिक तथ्य—33 मूली—106
कथनी और करनी की दुविधा—33 स्वास्थ्य और सौंदर्य—107
बेचारे शास्त्र भी या करें—34 शाक—109
बोए पेड़ बबूल का तो आम कहाँ से खाय—35 7. फलों के उपयोग—112 
स्वस्थ शरीर ही यों?—36 तव-तालिका—112
शाकाहार ही यों?—37 अंगूर—113
प्रकृति : हमारी डॉटर—38 नींबू—114
मानव शरीर की श्रेष्ठता—41 संतरा—116
स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता—42 गन्ना—119
मन में हो वासना तो झूठी है उपासना—43 दलदार फल—119
मस्तिष्क की ग्रहणशीलता—44 पपीता—120
शिवा-संकल्प—46 केला—122
योग: कर्मसु कौशलम्—47 सेब—126
3. पढ़ो, समझो और करो—48 अनार—128
उपवास एक अचूक वरदान—48 बड़े वृक्षों के फल—129
कमजोर में गुस्सा तेज—50 आम—130
तनाव से मुति—52 कच्चा आम—132
साविक आहार—54 आम के आम, गुठलियों के दाम—133
शाकाहार—55 पका आम—135
4. स्वास्थ्य-रक्षा—59 जामुन—137
स्वस्थ कौन?—61 नाशपाती—141
स्वास्थ्य चेतना—62 आँवला—142
स्वास्थ्य के नियम : वैज्ञानिक दृष्टि से—63 च्यवनप्राश निर्माण विधि—143
अपनी अवस्था का ध्यान रखें—66 बेल (फल)—146
काल-विवेक—66 सूखे फल (मेवा)—147
स्वर-शास्त्र का ज्ञान—67 खजूर—147
स्वास्थ्य के अन्य तव—68 अंजीर—150
ब्रह्मचर्य—69 खूबानी—151
अप्रमाद-युत भाव-क्रिया—70 मुनका—153
ऋतु आहार—71 अखरोट—153
वर्जित आहार—72 8. कुछ इधर-उधर भी—155
रात्रि-भोजन का त्याग —73 विटामिंस—155
उाम पाचन विधि—74 विटामिंस के प्रकार तथा उपयोग—156
रोगों से बचाव की विधि—75 रक्त ग्रुप संबंधी विशेषताएँ—158
5. खाद्य-पदार्थों से चिकित्सा—77 कुछ उपचारक दोहे—159
शरीर और मशीन में भिन्नता—78  चाय के गुण-अवगुण—161
भोजन के अनिवार्य अवयव—78 नमक से लाभ—162
कैलोरीज की अनिवार्यता—79  

The Author

Parvesh Handa

महिलोपयोगी विषयों पर अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित लेखन के लिए सुप्रसिद्ध श्रीमती परवेश हांडा ने पंजाब विश्‍वविद्यालय से स्नातक के उपरांत पत्रकारिता का प्रशिक्षण प्राप्‍त किया। अब तक 30 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित। राष्ट्रीय पत्रों में वर्षों कार्य कर चुकी हैं। सौंदर्य विज्ञान, प्राकृतिक साधनों, योग विज्ञान इत्यादि विषयों पर विपुल लेखन। नई दिल्ली से प्रकाशित एक महिला पत्रिका का तीन वर्ष तक संपादन। इन दिनों सौंदर्य प्रसाधनों का उत्पादन करनेवाली एक प्रमुख कंपनी में वरिष्‍ठ सलाहकार के पद पर कार्यरत।

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW