Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Sunrays For Tuesday (Hindi)   

₹400

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Priya S. Tandon , Sanjay Tandon
Features
  • ISBN : 9789352660742
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Priya S. Tandon , Sanjay Tandon
  • 9789352660742
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1
  • 2017
  • 232
  • Hard Cover

Description

‘सनरेज फॉर ट्यूजडे’ का अंग्रेजी प्रकाशन सन् 2006 में हुआ था। टंडन दंपती की यह तीसरी पुस्तक थी। अब सन् 2017 तक ये इन छह पुस्तकों का प्रकाशन कर चुके हैं—Sunrays for Sunday, Sunrays for Monday, Sunrays for Tuesday, Sunrays for Wednesday, Sunrays for Thursday & Sunrays for Friday. पहली दो पुस्तकें हिंदी व तेलुगु में भी उपलब्ध हैं।
इन सभी पुस्तकों में प्रस्तुत कहानियाँ भगवान् श्री सत्य साईं बाबा के प्रवचनों पर आधारित मानवीय गुणों को सिखाने का एक सूक्ष्म व प्रबल साधन हैं। जो भी व्यक्ति अपने बच्चों को अच्छे गुण व संस्कार देना चाहता है, उसमें बहुत सहायक हो सकती हैं। इस पुस्तक का शीर्षक सूर्य की किरणों पर आधारित है, क्योंकि प्रेरणा सूर्य की किरणों की तरह होती है। समय-समय पर हम सब को प्रेरणा की जरूरत होती है। अच्छे आचरण को बनाने के लिए, संभवतः कुछ-न-कुछ मेहनत तो करनी ही पड़ती है और संयम भी रखना ही पड़ता है। इन कहानियों को पढ़कर, प्रेरणा व बल मिलता है, और अपने आप में सुधार लाने की इच्छा जाग्रत् होती है, क्योंकि जो कुछ भी हो, अंत में सभी को लौटकर परमधाम जाना है, और प्रभु तो अच्छे कर्म करनेवालों को ही मिलेंगे। वरना फिर एक बार जीवन-मरण के कालचक्र में फँस जाएँगे।

______________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम  
प्राकथन (अमित शाह) — vii 24. तुम वहीं हो, जहाँ तुम्हारा मन है — 93
Foreword (Arun Jaitley) — viii 25. माँ, तुम कहाँ हो — 97
Foreword (K.V. Kamath) — ix 26. शराबी ड्राइवर — 101
Message (Mukesh D. Ambani) — x 27. कछुआ और चींटी — 105
प्रस्तावना सन् 2017 — xi 28. एक मिनट मुझे दो — 109
Preface — xiii 29. राजकुमार मोहजीत — 113
आभार — xvi 30. खेल-दादा — 117
नमस्कार  — xviii 31. रोटी में या है? — 121
1. हमेशा मुसकराते रहो — 1 32. एक नन्ही परी — 125
2. दो बसे — 5 33. माली का घड़ा — 129
3. ए.बी.सी. 9 34. दिव्यांग कलाकार — 133
4. केवट, एक नाव चालक — 13 35. अंधी महिला — 137
5. कला-परीक्षा — 17 36. श्रेष्ठ, श्रेष्ठतम, सर्वश्रेष्ठ — 141
6. मोची — 21 37. भोजन में मांसाहार — 145
7. परिवार बनाम अन्य — 25 38. सोने की थाली — 149
8. गरीब रिश्तेदार —  — 29 39. चॉकलेट — 153
9. दिल्ली से लास एंजिल्स — 33 40. कर्म का मर्म — 157
10. नारायण-सेवा — 37 41. सुनामी — 161
11. पेंसिल — 41 42. उपयोगी या अनुपयोगी  — 165
12. लालची सूअर — 45 43. सामूहिक नकल — 169
13. सांता लाज  — 49 44. राज्य का मूल्य — 173
14. वो मुझे ढूँढ़ रहा है — 53 45. भाग्यशाली औरत — 177
15. कृष्ण का मूल्य — 57 46. सूर्य की तरह पिता — 183
16. प्रेम की माला — 61 47. रतदान — 188
17. अकबर और बीरबल — 65 48. कलाकार — 191
18. बार-बार — 69 49. रामू से ममता — 196
19. अनकहा प्यार — 73 50. संसार का सबसे महान् शिक्षक — 199
20. बर्फ के टुकड़े — 77 51. जय श्रीराम — 203
21. गधा एवं मूर्तियाँ — 81 52. चरित्र : धनी व्यति की संपत्ति नहीं — 206
22. जीजस का साथ — 85 प्रिय स्वामी, धन्यवाद! — 211
23. बस करो, पूजा — 89 स्पष्टीकरण — 212

The Author

Priya S. Tandon

प्रिया एस. टंडन B.Com. (Hons.) LLB, कॉम्पीटेंट फिनमैन प्रा.लि. की प्रमोटर व डायरेक्टर हैं। वह एक लेखिका, कलाकार, गीतकार और ब्लॉगर भी हैं। वह कॉम्पीटेंट फाउंडेशन के लोकोपकारी कार्यों में विशेष रूप से भाग लेती हैं; जैसे कि रक्तदान शिविर, लंगर, कैंसर पीडि़तों की सहायता, पुस्तकों का लेखन व प्रकाशन इत्यादि।

Sanjay Tandon

संजय टंडन B.Com. (Hons.) FCA, AIIA, ACMA कॉम्पीटेंट गु्रप के प्रमोटर व चेयरमैन हैं। पिछले सात वर्ष से वे भारतीय जनता पार्टी, चंडीगढ़ के अध्यक्ष हैं। पंजाब विश्वविद्यालय की सीनेट के सदस्य हैं। वे कॉम्पीटेंट फाउंडेशन के लोकोपकारी कार्यों में विशेष रूप से भाग लेते हैं, जिसका आदर्श है ‘Help Ever, Hurt Never’।

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW