Mujhe Bananaa hai UPSC Topper (Paperback)

Mujhe Bananaa hai UPSC Topper (Paperback)   

Author: Nishant Jain
ISBN: 9789386300836
Language: Hindi
Publisher: Prabhat Prakashan
Edition: 1
Publication Year: 2017
Pages: 272
Binding Style: Soft Cover
Rs. 195
Inclusive of taxes
In Stock
Call +91-11-23289555
for assistance from our product expert.
Description

• परीक्षा की समग्र, संपूर्ण और व्यापक तैयारी के टिप्स
• तैयारी के अनछुए पहलुओं पर खुलकर चर्चा
• परीक्षा के लिए कैसे सँवारें अपना व्यक्तित्व
• सकारात्मकता और मोटिवेशन लेवल कैसे बनाए रखें
• प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू के लिए विस्तृत मार्ग दर्शन
• निबंध और एथिक्स में श्रेष्ठ अंक कैसे पाएँ
• लेखन कौशल को कैसे सुधारें
• क्या पढ़ें, क्या न पढ़ें और कैसे पढ़ें
• नए पैटर्न में कैसी हो प्रासंगिक रणनीति
• साथ में सफलता की कुछ अनकही कहानियाँ भी...

The Author
Nishant JainNishant Jain

हिंदी माध्यम के IAS टॉपर

रैंक 13, UPSC CSE-2014

यूपीएससी की वर्ष 2014 की सिविल सेवा परीक्षा में 13वाँ रैंक हासिल करने वाले निशांत जैन, हिंदी/भारतीयभाषाओं के माध्यम के टॉपर हैं। मुख्य परीक्षा में देश के तीसरे सर्वाधिक अंक (851अंक) प्राप्त करने वाले निशांत ने निबंध के प्रश्न-पत्र में 160 अंक और वैकल्पिक विषय हिंदी साहित्य में 313 अंक प्राप्त किए हैं, जो संभवतःसर्वाधिक अंक हैं। उत्तरप्रदेश के छोटे से शहर, मेरठ में साधारण पृष्ठभूमि में पले-बढ़े, निशांत 2013 में UPSC की सिविल सेवा परीक्षा के अपने पहले प्रयास में प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण नहीं हो पाए थे।

उन्होंने इतिहास, राजनीति विज्ञान व अंग्रेजी में ग्रेजुएशन और हिंदी साहित्य में पोस्ट-ग्रेजुएशन के बाद यूजीसी की नेट-जे.आर.एफ. उत्तीर्ण की। कॉलेज के दिनों में डिबेट, काव्यपाठ और एंकरिंग के शौकीन रहे निशांत ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से एम.फिल. की और लोकसभा सचिवालय के राजभाषा प्रभाग में दो साल काम भी किया।

कविताएँ लिखने और युवाओं से संवाद स्थापित करने में रुचि रखनेवाले निशांत; भाषा-साहित्य-संस्कृति, सृजनात्मक लेखन, शिक्षा, समाज कार्य और वंचित वर्गों के कल्याण के क्षेत्रों में गहरा रुझान रखते हैं। वह 2015 बैच के आई.ए.एस. प्रशिक्षु अधिकारी हैं।

ब्लॉग : nishantjainias.blogspot.in

Reviews
Copyright © 2017 Prabhat Prakashan
Online Ordering      Privacy Policy