Prabhat Prakashan, one of the leading publishing houses in India eBooks | Careers | Publish With Us | Dealers | Download Catalogues
Helpline: +91-7827007777

Mahan Krantiveer Rasbehari Bose   

₹250

In stock
  We provide FREE Delivery on orders over ₹1500.00
Delivery Usually delivered in 5-6 days.
Author Swatantra Kumar
Features
  • ISBN : 9789384343606
  • Language : Hindi
  • Publisher : Prabhat Prakashan
  • Edition : 1
  • ...more

More Information about International Finance: Theory and Policy, 10th ed.

  • Swatantra Kumar
  • 9789384343606
  • Hindi
  • Prabhat Prakashan
  • 1
  • 2017
  • 160
  • Hard Cover

Description

रासबिहारी बोस भारत के एक क्रांतिकारी नेता थे, जिन्होंने ब्रिटिश शासन के विरुद्ध गदर षड्यंत्र एवं आजाद हिंद फौज के संगठन में महत्त्वपूर्ण काम किए। वे बचपन से ही देश की स्वतंत्रता के स्वप्न देखा करते थे। क्रांतिकारी गतिविधियों में उनकी गहरी दिलचस्पी थी। उन्होंने न केवल भारत में कई क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन करने में अग्रणी भूमिका निभाई, अपितु विदेश में रहकर भी वे भारत को स्वतंत्रता दिलाने के प्रयासों में आजीवन लगे रहे। दिल्ली में तत्कालीन वायसराय लॉर्ड चार्ल्स हार्डिंग पर बम फेंकने की योजना बनाने, गदर की साजिश रचने और बाद में जापान जाकर इंडियन इंडिपेंडेंस लीग और आजाद हिंद फौज की स्थापना करने में रासबिहारी बोस की प्रभावी भूमिका रही। स्वतंत्रता संग्राम में उनकी महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है। क्रांतिकारी जतिन मुखर्जी की अगुवाई वाले ‘युगांतर’ नामक क्रांतिकारी संगठन के अमरेंद्र चटर्जी से परिचय हुआ और वे बंगाल के क्रांतिकारियों के साथ जुड़ गए। बाद में श्रीअरबिंद घोष के राजनीतिक शिष्य रहे जतींद्रनाथ बनर्जी उर्फ निरालंब स्वामी के संपर्क में आने पर संयुक्त प्रांत (वर्तमान उत्तर प्रदेश) और पंजाब के प्रमुख आर्य समाजी क्रांतिकारियों के संपर्क में आए।
भारतीय  स्वातंत्र्य  समर  की हुतात्माओं की लंबी शृंखला की एक महत्त्वपूर्ण कड़ी में प्रमुख रासबिहारी बोस की प्रेरक जीवनगाथा।

_____________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

अनुक्रम

दो शद — 5

1. विरोध की लहर — 9

2. स्वतंत्रता का समर्थक — 14

3. संवेदनशील देशभत — 20

4. पिता का मार्गदर्शन — 24

5. पुलिस की दस्तक — 28

6. क्रांति की ओर उन्मुख — 34

7. उचित अवसर की तलाश — 38

8. जैसी करनी, वैसी भरनी — 41

9. उग्र बंगाल — 45

10. क्रांतिपथ पर अग्रसर — 50

11. संकल्प के धनी — 54

12. योजना का निर्माण — 60

13. साहस भरा कार्य — 64

14. क्रांतिकारियों की खोजबीन — 67

15. गदर की योजना — 71

16. जतिन मुखर्जी का मार्गदर्शन — 76

17. क्रांतिकारी विद्रोह — 81

18. निरालंब स्वामी का संरक्षण — 86

19. जापान-यात्रा — 91

20. रहन-सहन की व्यवस्था — 95

21. क्रांतिकारियों की गिरतारी — 98

22. सोमा परिवार का सहयोग — 103

23. वैवाहिक बंधन — 106

24. संकट के बादल — 111

25. जासूसी से बचने का उपाय — 116

26. पेनी त्यासको और इवाची — 120

27. इनुमाई का समर्थन — 124

28. जासूस पेनी की गिरतारी — 127

29. जापानी नागरिकता — 131

30. पत्नी का देहांत — 134

31. द्वितीय विश्वयुद्ध — 137

32. इंडियन इंडिपेंडेंस लीग — 142

33. नेताजी से भेंट — 146

34. आजाद हिंद फौज के बढ़ते कदम — 149

35. सफलता की प्राप्ति — 152

36. अनंत में विलीन — 156

The Author

Swatantra Kumar

Customers who bought this also bought

WRITE YOUR OWN REVIEW