Ganit Mein Payen 100/100

Ganit Mein Payen 100/100

Author: D.D. Sharma
ISBN: 9789380183473
Language: Hindi
Publisher: Prabhat Prakashan
Edition: 1st
Publication Year: 2011
Pages: 104
Binding Style: Hard Cover
Rs. 200
Inclusive of taxes
In Stock
Call +91-11-23289555
for assistance from our product expert.
Description

क्यों कुछ लोग गणित पढ़ने में पूर्ण आनंद अनुभव प्राप्‍त करते हैं, जबकि दूसरों को वह हौआ लगता है? क्यों कुछ लोग 100/100 नंबर पाते हैं, जबकि बहुतों के लिए वह जीवन भर अभिशाप बनकर रह जाता है? उत्तर ज्यादा कठिन नहीं है। कक्षा 10 तक गणित अनिवार्य विषय है। अधिकतर छात्र इसमें प्रयुक्‍त चिह्न, गणितीय शब्द, सूत्र, स्पष्‍टीकरण व उदाहरणों से पर्याप्‍त परिचय नहीं कर पाते और इसमें कमजोर रह जाते हैं, फलतः उनके लिए गणित हौआ बनकर रह जाता है।
गणित कोई मुश्किल विषय नहीं है। प्रस्तुत पुस्तक कक्षा 6 से कक्षा 10 तक के विद्यार्थियों के लिए गणित को आसान व रुचिकर बनाने का एक सशक्‍त प्रयास है। इसमें दिए हुए सूत्र जीवन भर काम आनेवाली धरोहर हैं।
ये सूत्र ही गणित का जीवन हैं। अतः उनके उचित उपयोग के लिए छोटे-छोटे उदाहरण दिए गए हैं। आप अपना थोड़ा सा मस्तिष्क लगाकर आसानी से गणित में 100 में से पूरे 100 अंक पा सकते हैं। गणित में पारंगत होने और सफल होने के लिए हर विद्यार्थी व सामान्य जन के लिए उपयोगी पुस्तक।

The Author
D.D. SharmaD.D. Sharma

जन्म : 5 जनवरी, 1952 को ग्राम रसूलपुर रिठौरी, जिला बुलंदशहर (उ.प्र.) में।
शिक्षा : राजकीय इंटर कॉलेज (बुलंदशहर) तथा अग्रसेन इंटर कॉलेज सिकंदराबाद से हाई स्कूल एवं इंटर करने के पश्‍चात् दिल्ली विश्‍वविद्यालय में बी.एस-सी. (ऑनर्स) गणित द्वितीय वर्ष के छात्र थे कि पिता की मृत्यु हो गई। ट्यूशन पढ़ाकर बी.एस-सी. (ऑनर्स) एवं एम.एस-सी. उत्तीर्ण की।
कृतित्व : पढ़ाई के साथ-साथ दयाल कॉलेज, शर्मा पी.टी. कॉलेज, हरीश कॉलेज चलानेवाले डी.डी. शर्मा ने पहले दो बार सरकारी नौकरी के अवसर जान-बूझकर छोड़ दिए और सारा जीवन शिक्षा को समर्पित कर दिया। इग्नू के लिए चार तथा ओपन स्कूल के लिए तीन पुस्तकें लिखी हैं। दिल्ली बिजनेस स्कूल (नई दिल्ली) के एसोसिएट प्रोफेसर, विजिटिंग प्रोफेसर, दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड रिसर्च में काम कर चुके वर्तमान में नॉलेज हॉरेजिन, नई दिल्ली में आई.आई.टी. (गणित) पढ़ा रहे हैं। कविता की चार पुस्तकें प्रकाशित। एक नई थ्योरी ‘विचार विज्ञान’ (थॉटोनिक्स पर) शीघ्र प्रकाश्य।

Reviews
Copyright © 2017 Prabhat Prakashan
Online Ordering      Privacy Policy