N. Raghuraman

N. Raghuraman

N. Raghuraman

A post-graduate from Mumbai University and an IIT (Som) Bombay alumnus,
N. Raghuraman is a seasoned journalist with more than thirty years of experience as an editor of distinction in leading national dailies such as The Indian Express, DNA and Dainik Bhaskar. This prolific writer has scarcely left any area untouched: from crime to politics and from business development to successful entrepreneurship. His immensely popular daily column ‘Management Funda’ in all editions of Dainik Bhaskar has captured the fancy of a nation given to meretricious ideals. The success of the column lies in stringing together diverse tales of ordinary people performing extraordinary feats; in delineating the simplicity of life where indeed its core values are ensconced.
Mr. Raghuraman is also an amazing motivational and inspirational speaker, just as he is an accomplished master of ceremonies and moderator of public debates. He has written several books published in English, Hindi, Gujarati and Marathi.

 

मुंबई विश्‍वविद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएट और आई.आई.टी. (सोम) मुंबई के पूर्व छात्र श्री एन. रघुरामन मँजे हुए पत्रकार हैं। 30 वर्ष से अधिक के अपने पत्रकारिता के कॅरियर में वे ‘इंडियन एक्सप्रेस’, ‘डीएनए’ और ‘दैनिक भास्कर’ जैसे राष्‍ट्रीय दैनिकों में संपादक के रूप में काम कर चुके हैं। उनकी निपुण लेखनी से शायद ही कोई विषय बचा होगा, अपराध से लेकर राजनीति और व्यापार-विकास से लेकर सफल उद्यमिता तक सभी विषयों पर उन्होंने सफलतापूर्वक लिखा है। ‘दैनिक भास्कर’ के सभी संस्करणों में प्रकाशित होनेवाला उनका दैनिक स्तंभ ‘मैनेजमेंट फंडा’ देश भर में लोकप्रिय है और तीनों भाषाओं—मराठी, गुजराती व हिंदी—में प्रतिदिन करीब तीन करोड़ पाठकों द्वारा पढ़ा जाता है। इस स्तंभ की सफलता का कारण इसमें असाधारण कार्य करनेवाले साधारण लोगों की कहानियों का हवाला देते हुए जीवन की सादगी का चित्रण किया जाता है।
श्री रघुरामन ओजस्वी, प्रेरक और प्रभावी वक्‍ता भी हैं; बहुत सी परिचर्चाओं और परिसंवादों के कुशल संचालक हैं। मानसिक शक्‍ति का पूरा इस्तेमाल करने तथा व्यक्‍ति को अपनी क्षमता के अधिकतम इस्तेमाल करने के उनके स्फूर्तिदायक तरीके की बहुत सराहना होती है।

Books by N. Raghuraman

Copyright © 2017 Prabhat Prakashan
Online Ordering      Privacy Policy